Kabir Bhajan Lyrics

चलना है दूर मुसाफिर | Chalna Hai Dur Musafir | Kabir Bhajan Lyrics |...

0
चलना है दूर मुसाफिर , काहे सोवे रे ।काहे सोवे रे , मुसाफिर काहे सोवे रे ।।चेत अचेत नर सोच बावरे , बहोत नींद मत सोवे रे ।काम , क्रोध ,...
Kabir Bhajan Lyrics

कहासे आया कहा जाओगे | Kahase Aaya Kaha Jaoge | Lyrics Bhajanbook

0
कहासे आया कहा जाओगे , खबर करो अपने तनकी | कोई सद्गुरु मिले तो भेद बतावे , खुलजावे अंतर की खिड़की ||  हिन्दू मुस्लिम दोनों भुलावे , खटपट माय रिया अटकी | जोगी जंगम...
error: Content is protected !!