देवायत पंडित दा’डा दाखवे | Devayat Pandit Bhavishyvani Bhajan

0
911
देवायत पंडित दा’डा दाखवे ,सुन लो देवलदे सतिनार ,
हमारे गुरु ने आगम कहा ,जुठडा नहीं लगार ,
लिखा कहा सोइ दिन आएगा , ऐसे आगम के ऐंधान ,
पहले पहले पवन फुकेगा , नदी में नहीं होगा नीर ,
उत्तर दिशा से साहेब आएगा , मुखे हनुमो वीर ,
धरती माथे हेमर चलेगा , सुना नगर मोजार ,
लक्ष्मी लुटेगी लोगो तनी , नही कोई राव नही फरियाद ,
पोरो आयो संतो पाप को , धरती मांगे भोग ,
किसीको खड्ग से सहारेंगे , किसीको मारे रोग,
जूठा पुस्तक जूठा पानिया , जूठा काजी का कुरान ,
असलजादी चूड़ी पहनेगी , ऐसे आगम के ऐंधान,
कांकरिया तलाव तम्बू लगायेंगे , सो सो गांव की सिम ,
रूडी दिशा रढ़ियाली , साथ में अर्जुन भीम,
जति,सती,साबरमती , वहा होंगे शुरो के संग्राम ,
कायम कलिंगा को मारेंगे , नकलंक धरेंगे नाम,
कलियुग उथापि सतयुग स्थपेगा , होगी जगत को जाण ,
देवायत पंडित बोलिया , ऐसे आगम के ऐंधान,
Devayat Pandit Dada Dakhave Lyrics
Bhavishyavani Bhajan Lyrics

Table of Contents

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here