दूर नगरी बड़ी दूर नगरी | Dur Nagri Badi Dur Nagri Lyrics | Mirabai Bhajan Lyrics | Bhajanbook

0
583
दूर नगरी बड़ी दूर नगरी
कैसे आवु में कनैया तेरी गोकुल नगरी
बड़ी दूर नगरी ।
जमुना जल जाऊ कान्हा , पायल मोरी भींजे
जपट चलु तो भीग जाये कजरी । बड़ी दूर नगरी ।।
धीरे चलूतो कान्हा , कमर मोरी लचके
जपट चलूतो मोरी छलके गगरी । बड़ी दूर नगरी ।।
सखी संग आवूतो कान्हा , शरम मोहे लागे
अकेली आवुतो भूल जावु डगरी । बड़ी दूर नगरी ।।
रातमे आवूतो कान्हा , डर मोहे लागे ,
दिनमें आवुतो देखे सारी नगरी । बड़ी दूर नगरी ।।
मीराबाई गावे कान्हा गिरधरना गुण ।
तुमरे दर्शन बिन होगई में बावरी । बड़ी दूर नगरी ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here