मेरे भोले के दरबार में सबका खाता है | Mere Bhole Ke Darbar Me Sabka Khata Lyrics

0
389
जितना तेरे भाग्यमे लिखा वो उतनाही पाता है
मेरे भोले के दरबार में सबका खाता है
शिव लहेरी के दरबार में सबका खाता है ।
राजा हो या रैंक सभी है उनके ताबेदार
अरे देवो मे वो महादेव है , भूतो के सरदार
मेरे भोले के दरबार में सबका खाता है ।
चाहे अमीर हो , चाहे गरीब हो उनको एक समान
अरे सबकी बिगड़ी वोही बनाये (2)
हम सबके वो भगवान्  , मेरे भोले के दरबार में ।
धर्म किये जा धनकी चिंता मत करना इंसान
जैसा तेरा करम है वैसा , फल देगा भगवान
मेरे भोले के दरबार में सबका खाता है ।
देख समजले मानव तू है  , दो दिन का महेमान
कितने आकर चले गए, कितने जाने को तैयार
मेरे भोले के दरबार में सबका खाता है ।
भगवेमे भगवान् छुपा है , मानव तू पहेचान
नकली रंग के कपडे रंगावे , वो साधु नहीं शैतान
मेरे भोले के दरबार में सबका खाता है ।
गिरी कहे तू गिरके संभलजा , ये जग है नादान
तेरा बनाया तुझको बनावे , वो मानव नहीं हैवान
मेरे भोले के दरबार में सबका खाता है ।
Mere Bhole Ke Darbar Me Lyrics
Shiv Bhajan Lyrics

 

Table of Contents

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here