एक राधा एक मीरा | Ek Radha Ek Meera Lyrics

0
469
एक राधा एक मीरा , दोनों ने श्याम को चाहा
अंतर क्या दोनो की चाह में बोलो (2)
एक प्रेम दीवानी एक दरश दीवानी (2),
राधाने मधुबन में ढूंढा ,
मीरा ने मन में पाया ,
राधा जिसे खो बैठी ओ गोविंद ,
मीरा हाथ बिक आया ,
एक मुरली , एक पायल ,
एक पगली , एक घायल ,
अंतर क्या दोनों की प्रीत में बोलो (2),
एक सूरत भुलानी , एक मूरत मुलानी (2),
एक प्रेम दीवानी , एक दरश दीवानी ,
मीरा के प्रभु गिरघर नागर,
राधा के मनमोहन ,
राधा नित श्रृंगार करे , और मीरा बन गयी जोगन
एक रानी एक दासी , दोनों हरी प्रेम की प्यासी ,
अंतर क्या दोनों की प्रीत में बोलो ,
एक जित ना मानी , एक हार ना मानी ,
एक राधा एक मीरा , दोनों ने श्याम को चाहा
अंतर क्या दोनो की चाह में बोलो (2)
एक प्रेम दीवानी एक दरश दीवानी (2),
Ek Radha Ek Meera Lyrics
Krishn Bhajan Lyrics In Hindi

 

 

 

Table of Contents

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here