शिव शंकर सुखकारी | Shiv Shankar Sukhkari Lyrics

0
496
शिव शंकर सुखकारी , महादेव , सोमेश्वर , शम्भू , विषधारी
गिरी कैलाशे गिरिजा के संग शोभे शिव त्रिपुरारी
डमडम डमडम डमरू बाजे , भुत पिशाचकी यारी ,
गंगा गहेना शिर पर पहेना भुजंग भूषण भारी ,
बांको सोहे सोम सुलपाने भष्म लगावत भारी ,
वाघंबर का जामा पहेना लोचन भाल लगारी ,
वृषभ वाहन विश्वनाथ का भूमि शमशान विहारी ,
मुख मंडल तेरो मन ललचावे छब लागत है न्यारी ,
मृत्युंजय प्रभु मुजे बनादो , बैठे जो मृगचारी ,
चरन घुलका प्यासा पिनाकमे भूतेश भक्त हितकारी ,
दास केदार केदारनाथ तू , ब्रैजनाथ बलिहारी ,
Shiv Shankar Sukhkari Lyrics
Shiv Stuti Lyrics

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here